Connect with us

एक्सक्लूसिव

अहमद का कांग्रेस को जीरो पर टिकाने का खेल

Published

on

नई दिल्ली। झारखंड में चुनाव की घोषणा से ठीक पहले महाराष्ट्र और हरियाणा के चुनावी नतीजों में भाजपा पहली नजर में काफी पीछे पहुंच गई थी। धारा-370 के राष्ट्रवादी घोषणा का असर उसके अपने चुनावों में टिकट वितरण में वफादारों की तरजीह में 370 की बनी फिजां को बर्बाद कर दिया। हरियाणा में भाजपा के मुख्यमंत्री और सूबे के जमीनी नेता माने जाने वाले अनिल विज को छोड़कर सभी मंत्री मैदान में चित हो गए थे।

वहीं महाराष्ट्र में शिवसेना को मुंबई और मराठवाड़ा को समेटने का मंसूबा पालने वाले अमित शाह को करारा झटका लगा। गठबंधन के साथ चुनावों में जाने वाली ये दोनों दल भाजपा और शिवसेना, चुनावों में एक-दूसरे को धक्का देकर पीछे करते नजर आए। नतीजा सामने है और सरकार बनने में और राष्ट्रपति शासन लागू करने में कुछ घंटों का वक्त बचा है।

अमित शाह और नरेंद्र मोदी के भाजपा में विरोधी बनकर उभरे नितिन गडकरी की सियासी चालों का आकलन हो रहा है। गडकरी की ठाकरे परिवार से नजदीकी और संघ के दवाब के बाद महाराष्ट्र की राजनीति फडनवीस को दिल्ली और गडकरी को महाराष्ट्र की राजनीति में फिट करने के साथ आगे बढ़ रही है।

आपको बता दें कि कांग्रेस का अहमद धड़ा अपना खेल आगे बढ़ा रहा है। पहले तो शिवसेना को सामने से समर्थन देने पर महाराष्ट्र में अहमद गैंग, जिसकी अगुवाई अशोक चव्हान करते रहे हैं, के साथ पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हान और बालासाहेब थोराट कांग्रेस अध्यक्ष पर दवाब बना रहे थे। सोनिया गांधी इन नेताओं से मिली जरूर, मगर सरकार में शामिल होने और समर्थन देने के मुद्दे पर इंकार कर दिया।

अहमद ने अपना प्लान बी फेंकते हुए एनसीपी में अपने चहेते प्रफुल्ल पटेल के जरिए शरद पवार को आगे बढ़ने की लाइन दे दी ताकि गठबंधन के दवाब में एनसीपी को समर्थन देना कांग्रेस की मजबूरी बन जाती। लेकिन शिवसेना में पवार विरोधी तेवर और मुख्यमंत्री पद पर अपना दावा रखने की वजह से एनसीपी सुप्रीमो को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया।

इसके बाद कांग्रेस के कोषाध्यक्ष ने गडकरी को बिना बुलाए समर्थन देने पहुंचे। नितिन गडकरी को उस आंकड़े तक पहुंचाने की पेशकश कर बैठे जिसमें 105 $ निर्दलीय, बाकी कांग्रेसियों को दल-बदल कराकर मुख्यमंत्री बनने का ख्वाब दिखा आए। अहमद की गुपचुप हो रही इस मुलाकात को गडकरी ने अपने विश्वासपत्र पत्रकार मित्रों को खबर देकर आम कर दिया। इसके बाद कांग्रेसी आलाकमान और सतर्क हो गया।

हालांकि सरकार बनाने की इस दौर में वो किसानों के मुद्दों को लेकर अपने ऊपर हो रहे हमलों को शांत करने की कोशिश करते दिखे। किसानों के मुद्दे पर प्रधानमंत्री और कृषिमंत्री और गृहमंत्री का मसला तो समझ में आ सकता है, लेकिन गडकरी के साथ किसानों के मुद्दे पर बात करने के मामले को मीडिया में उछालना किसी के गले नहीं उतर रहा। हालांकि अहमद ने इस मामले को ठंडा करने के लिए कुछ चुनींदा पत्रकारों के जरिए मैनेज करने का प्रयास किया जो कुछ हद तक सफल भी रहा।

झारखंड में भी अहमद अपना कमाल दिखा चुके हैं। झारखंड के दो-दो प्रदेश अध्यक्ष और अहमद के प्यादे के तौर पर पहचान बनाए सुखदेव भगत और डा अजय कुमार आज पार्टी बदल चुके हैं। एक ने भाजपा और दूसरे ने आप का झंडाबरदारी कुबूल कर लिया। झारखंड से कई दिग्गज जिसमें कांग्रेस विधायक दल के नेता रहे मनोज यादव समेत भाजपा का दामन थाम चुके हैं।

प्रभारी आरपीएन सिंह ताकते रह गए और दिल्ली के एआईसीसी मुख्यालय में चुनींदा पत्रकारों के बीच हंसी-ठिठोली करते हुए हंसी-ठिठोली का पात्र हो गए। कांग्रेसी हाईकमान आरपीएन के हाईफाई हवा-हवाई खेल को समझ चुका है। उनके दिन अब गिनती के हैं। प्रियंका गांधी और राहुल गांधी के दौरों के बाद जो कुशीनगर लोकसभा चुनाव में इनकी गत बनी थी, उसी का फायदा अजय कुमार लल्लू को मिला।

लल्लू जमीनी नेता की हैसियत बनाने हुए प्रदेश के अध्यक्ष पद पर काबिज हो गए लेकिन हम नहीं सुधरेंगे की तर्ज पर राजा कहलवाने के आदी हो चुके ये नेताजी अब उसी क्षेत्र के प्रजा की भांति सड़क नापते हुए अगली बारी का इंतजार कर रहे हैं। कयास यही लग रहे हैं कि झारखंड के नतीजे इनको जल्द ऐसा मौका उपलब्ध करा देंगे। बतौर प्रभारी आरपीएन के कुप्रबंध का नतीजा है कि खांटी कांग्रेसियों ने भाजपा का दामन झारखंड में थाम लिया।

रही सही कसर अहमद टिकटों के साथ चुनाव प्रबंधन में पूरा कर देंगे। फिलहाल झारखंड के दिग्गजों को आपस में भिड़ा चुके अहमद भाजपा, झामुमो, राजद के बाद चौथे नंबर का दल बनवाकर कर छोड़ेंगे। राजद को बिहार में निबटा हुआ माना जा रहा है, मगर अहमद उनको ताकत देने पर आमदा हैं। बिहार के चुनावों जिस तरीके से टिकटों का खेल हुआ, उसका नतीजा सबके सामने है। गठबंधन के इकलौते सांसद बने जावेद की अपनी सबसे सुरक्षित सीट पर ही जमानत जब्त हो गई।

चुनाव जीतकर बौरा गए जावेद सीमांचल के अलग राज्य की मांग को उठा रहे थे जिसका करारा जवाब इनको इनकी अपनी विधानसभा सीट पर मिल चुका है। इनको वो सभी सिपाहसलार जो इनके परिवार को जीत दिलाने में मददगार थे, उन्होंने ही कांग्रेस की आखिरी जमीन भी सुपुर्दे-खाक कर दी। अहमद के गुजराती भाई और प्रभारी इस काम को अंजाम देने के लिए लगे हुए थे। भारी विरोध के बाद उन लोगों को टिकट दिया गया जिन्हें कांग्रेसियों ने मिलकर जिलाबदर कर दिया।

विधानसभा के उपचुनावों में दो सीटों पर जीत ने राजद के नेतृत्व की नहीं, बल्कि जीतने वाले विधायकों की निजी जीत है। सुप्रीमो बने घूम रहे तेजस्वी की दोनों मीटिंगों में कुर्सी फेंकों सम्मान ने राजद के राजकुमार के हौंसले पस्त करने के लिए काफी थे। यही वजह रही कि तेजस्वी यादव कहीं चुनाव प्रचार करने तक नहीं गए थे।

झारखंड में झामुमो को बड़ा भाई मानने के बाद राजद को 12 से अधिक सीट देना कांग्रेस की जमीन खत्म करने का सुनियोजित षड्यंत्र माना जा रहा है। सुबोधकांत सहाय, गीताश्री उरांव, फुरकान अंसारी और प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव का सिरा अहमद के घर खुलता है। इन सभी नेताओं को आपस में भिड़ाकर अहमद पटेल आरपीएन समेत कांग्रेस का लुटिया डुबोने का इंतजाम कर चुके हैं।

कांग्रेसी हाईकमान बने राहुल गांधी को अहमद टीम ने पूरे देश में मुकदमों के उलझा दिया। टपोरी टाइप बने प्रभारी कचहरी और कोर्ट का बेमतलब का चक्कर काट रहे हैं। बकायदा पटना पहुंचे राहुल गांधी को पीठासीन न्यायाधीश ने ऐसे मुकदमों में व्यक्तिगत रूप से पेश न होने का मशविरा भी दिया था। मगर अपनी राजनीति चमकाने के लिए ये प्रभारी पहुंच जाते हैं। ऐसे ही बिहार में कटिहार में पहुंचे प्रभारी को जिले के नेताओं ने ही उनका बहिष्कार ही कर दिया था।

महाराष्ट्र और हरियाणा के नतीजों से जहां कांग्रेसी बमबम है, वहीं कांग्रेस की बढ़ रही ताकत से अहमद खेमा बेचैन और चिंतित हैं। कांग्रेस के कोषाध्यक्ष की पूरी कोशिश फिलहाल तारिक अनवर को राष्ट्रीय राजनीति से बाहर रखने की थी, लेकिन हाईकमान उन्हें असम का पर्यवेक्षक बनाकर अपनी मंशा जाहिर कर चुका है। वहीं प्रदेशों के प्रभारी के ऊपर अलग से पर्यवेक्षक भेजकर प्रदेश में अहमद के वफादार बने प्रभारियों को चौंका दिया है।

महाराष्ट्र और हरियाणा के नतीजों से आए परिवर्तन के बाद आलाकमान इन प्रभारियों के जरिए प्रदेशों में कांग्रेस की अंदरूनी राजनीति और जमीनी हकीकत का आकलन करेगा। आने वाले दिन कांग्रेस में बड़े परिवर्तन के संकेत दे रहा है। पर्यवेक्षकों ने जिस मुस्तैदी से आंदोलन की रूपरेखा बनाई है, उससे कार्यकर्ताओं में खासा उत्साह दिख रहा है। आंदोलन की इस राजनीति में कांग्रेस की यह अंदरूनी राजनीति किस करवट बैठती है, इस पर राजनीतिक विश्लेषकों की निगाहें बनी हुई है।

रितेश सिन्हा पिछले दो दशक से पत्रकारिता जगत का जाना माना चेहरा रहे हैं | रितेश कई जन आंदोलनों में सक्रिय रहे हैं और जनता के सरोकार में निरंतर पत्रकारिता करते रहे हैं | रितेश नेशनल बुक ट्रस्ट द्वारा प्रकाशित पुस्तक "हाउ बर्ड्स फ्लाई" का हिंदी अनुवाद कर चुके हैं और इसके अलावा कई अन्य प्रकाशनों की पुस्तकों का भी अनुवाद कर चुके हैं | फिलहाल रितेश ब्लिट्ज इंडिया न्यूज़ के संपादक हैं और राजनीतिक विषयों पर लिखते हैं | इनका ट्विटर हैंडल @RGOFFICE9 है |

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोर्ट-कचहरी13 hours ago

सुप्रीम कोर्ट ने दिया हैदराबाद एनकाउंटर की न्यायिक जांच के आदेश

राजनीति15 hours ago

CAB की मंजूरी के साथ ही उत्तर-पूर्व राज्यों में भड़की हिंसा, विपक्ष से सरकार को घेरा

दिल्ली-एनसीआर1 day ago

केजरी सरकार की तीर्थ यात्रा योजना को रेलवे ने ट्रेन देने से किया इंकार

कला एवं साहित्य2 days ago

सोपान उत्सव में शास्त्रीय और पारंपरिक कला रूपों को प्रदर्शित करेंगी युवा प्रतिभाएं

एक्सक्लूसिव2 days ago

नानावती-मेहता आयोग ने गुजरात दंगों में मोदी को दी क्लीन चिट

दिल्ली-एनसीआर3 days ago

100 नई बसों को राजघाट डिपो से परिवहन मंत्री ने दिखाई हरी झंडी

दिल्ली-एनसीआर3 days ago

राव तुला राम मेमोरियाल अस्पताल में 270 बेड की नई बिल्डिंग का शिलान्यास

हेल्थ

एक्सक्लूसिव3 weeks ago

आप और हम मिलकर कैसे करते हैं पर्यावरण को प्रदूषित ?

जलवायु परिवर्तन के कारण वैश्विक आबोहवा बिगड़ती जा रही है। पेट्रोल व डीज़ल चालित वाहनों की लगातार हो रही वृद्धि,...

हेल्थ1 month ago

कैंसर के इलाज में मददगार बन सकता है जर्मनीः चौबे

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। ब्रिक्स देशों के नौवें स्वास्थ्य मंत्रियों के सम्मेलन में भाग लेकर स्वदेश लौटे केंद्रीय स्वास्थ्य एवं...

लाइफस्टाइल2 months ago

दिल्ली के सभी प्राइवेट स्कूल बने डेंगू अभियान का हिस्सा

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। दिल्ली में गरीब हो, अमीर हो, मिडिल क्लास का हो, लोअर मिडिल क्लास का हो, चाहे...

हेल्थ2 months ago

संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल में 362 बेड्स के ट्रॉमा सेंटर का शिलान्यास

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। दिल्ली की स्वास्थ्य सेवाओं में को विस्तार देते हुए मंगोलपुरी में संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल में...

हेल्थ4 months ago

बरसात में आंखों में जलन को न करें नजरंदाज, कंजंक्टिवाइटिस के हो सकते हैं लक्षण

गर्मी एवं बरसात के मौसम में आंखों में इंफेक्शन का खतरा काफी बढ़ जाता है। इस मौसम में कंजंक्टिवाइटिस जैसी...

दुनिया

दुनिया2 months ago

भारत 2025 तक 70 फीसदी तक स्तनपान ले जाने में सक्षम : चौबे

हैडलबर्ग, जर्मनी/नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। भारत में स्तनपान को लेकर जन-जागरूकता अभियान का असर अब दिखने लगा है। स्तनपान कराने...

दुनिया2 months ago

ब्रिक्स के स्वास्थ्य मंत्रियों के सम्मेलन में भाग लेने के लिए ब्राजील पहुंचे चौबे

पटना, ब्लिट्ज ब्यूरो। ब्रिक्स देशों के नौवें स्वास्थ्य मंत्रियों के सम्मेलन में भाग लेने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार...

दुनिया3 months ago

आखिर कौन है Greta Thunberg? डोनाल्ड ट्रंप को घूरते हुए Video हो रहा वायरल

नई दिल्ली: 16 साल की बच्ची पर्यावरणविद् ग्रेटा थुनबर्ग (Greta Thunberg) जिसने अमेरिका में आयोजित हुए संयुक्त राष्ट्र के उच्चस्तरीय जलवायु...

दुनिया3 months ago

जापानी फिल्म महोत्सव का आयोजन

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। भारत में तीसरे जापानी फिल्म फेस्टिवल (जेएफएफ इंडिया) के लांचिंग इवेंट में जापान फाउंडेशन के महानिदेशक...

दुनिया4 months ago

कल कश्मीर मुद्दे पर UNSC में बंद कमरे में होगी चर्चा

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council) जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) से विशेष दर्जा वापस लेने के भारत के...

बिहार

बिहार6 days ago

बिहार : जीविका से जुड़कर 1 करोड़ महिलाएं बनी आत्मनिर्भर

पटना, ब्लिट्ज ब्यूरो। बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने होटल लेमन ट्री में आयोजित ‘क्लोजिंग दी जेंडर गैपः हेल्थ,...

बिहार2 weeks ago

बिहार : सीएसआर फंड ट्रस्ट गठित करने का प्रस्ताव विचाराधीन

पटना, ब्लिट्ज ब्यूरो। दुनिया के 190 देशों में व्यापार की सुगमता (इज आफ डुइंग बिजनेसे) के मामले में 2014 में...

बिहार3 weeks ago

बिहार को गरीबी और अभाव से मुक्त करना सरकार का लक्ष्य

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। 39वें अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला में बिहार दिवस के दिन बिहार सरकार के उद्योग विभाग के उद्योग...

बिहार4 weeks ago

IITF-2019: धागे से बनी रंगबिरंगी नायाब ज्वैलरी लोगों को खूब आकर्षित कर रहे हैं

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। 39वें अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला में हॉल नम्बर 12 में सजे बिहार पवेलियन में शिल्पकृति महिला स्वावलंबन...

%d bloggers like this: