Connect with us

दिन-विशेष

विस्तृत: अनुच्छेद 370 हटाना सही या गलत?

Published

on

गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में कश्मीर को विशेषाधिकार देने वाली संविधान की धारा 370 के कुछ खंडों में परिवर्तन करने के लिए पेश किया जो राज्यसभा में 61 के मुकाबले 125 वोटों से पारित हो गया। चूंकि लोकसभा में सत्तारूढ़ दल भारतीय जनता पार्टी अर्थात भाजपा का पूर्ण होगीबहुमतराष्ट्रपति है अतः लोकसभा में इस विधेयक को पास कराने में इतनी कठिनाई नहीं । तत्पश्चात के हस्ताक्षर के साथ ही ये विधेयक कानून बन जाएगा और जम्मू कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा समाप्त हो जाएगा।

अनुच्छेद 370 के इतिहास पर यदि हम नजर डाले तो हम देखेंगे कि जब भारत आजाद हुआ तो उस वक्त ये प्रावधान किया गया कि जो राज्य भारत संघ में अपना विलय चाहते हैं वो भारत में शामिल हो जाएं या जो स्वतंत्र रहना चाहते हैं वो स्वतंत्र रह सकते हैं। उस समय वहां के राजा हरि सिंह ने स्वतंत्र रहना चुना परंतु शीघ्र ही कबिलाई आक्रमण जिसमें पाकिस्तान का हाथ था, शुरू हो गया था। तब जाकर राजा हरि सिंह ने भारत से मदद मांगते हुए जम्मू कश्मीर का कुछ निश्चित शर्तों पर सहमति के बाद भारत में विलय कर दिया।

अनुच्छेद 370 संविधान के भाग 21 में है। इसके 3 खंड हैं। खंड एक जिसमें ये कहा गया है कि राष्ट्रपति संविधान और संसद द्वारा बनाए गए कानूनों को जम्मू कश्मीर की विधानसभा की अनुमति से लागू कर सकता है। इस अनुच्छेद का दूसरा खंड कहता है कि यदि जम्मू-कश्मीर के लिए कोई कानून बनाया जा रहा हो तो उससे पहले केंद्र को राज्य की संविधान सभा की मंजूरी लेनी होगी। इस अनुच्छेद का खंड तीन कहता है कि राष्ट्रपति इस अनुच्छेद को पब्लिक नोटिफिकेशन के जरिए खत्म कर सकता है लेकिन उससे पहले उसे राज्य की संविधान सभा की मंजूरी लेनी होगी।

आज कश्मीर को छोड़कर पूरा भारत जश्न मना रहा है पर सवाल ये है कि कश्मीर के लोग इस जश्न में शामिल हैं? क्या कश्मीर के नेताओं से इस कानून को लेकर बात की है? कश्मीर के नेताओं से इस कानून की रूपरेखा को लेकर बातचीत तो दूर सरकार ने कश्मीर के नेताओं को उनके घरों में नज़रबंद कर दिया। इन नेताओं में फारूख अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती आदि नेता प्रमुख हैं। इस तरह से सरकार का रवैया खुद-ब-खुद कटघरे में खड़ा हो जाता है। इससे सरकार की मंशा पर सवाल खड़े हो जाते हैं।

अभी कुछ दिन पहले सरकार ने एक अन्य विधेयक संसद में पास कराया जिसका नाम है यूएपीए। यूएपीए कानून के अंतर्गत पुलिस लोगों को संदेह होने पर उठाकर आपको आतंकी घोषित किया जा सकता है और इस परिस्थिति में पुलिस को नहीं बल्कि उस व्यक्ति को ही ये सबूत पेश करना होगा कि वह आतंकी नहीं है। ये कानून एक तरीके से रॉलेट एक्ट की याद दिला रहा है। रॉलेट एक्ट के बारे में ये बात कही जाती है कि इस कानून में न अपील, न वकील , न दलील। यूएपीए कानून कुछ इसी तरह का कानून है। इस कानून की सहायता से सरकार अपने खिलाफ बोलने वालों को कुचल दिया जाएगा।

अब यदि इस कानून को कश्मीर के संदर्भ में समझा जाए तो हम ये देखेंग की आने वाले समय में इस कानून का कितने भयंकर स्तर पर इसका दुरूपयोग हो सकता है। इस कानून के तहत सरकार कश्मीर में अपने खिलाफ बोलने वाले व्यक्तियों को आतंकी घोषित कर सकती है। ये कानून पोटा कानून का ही बदला हुआ रूप है। इस कानून के लागू होने के बाद जिस तरीके से सरकार ने बिना कश्मीरियों को शामिल किए उनसे जुड़ा सबसे बड़ा फैसला ले लिया और उसको लागू करने के लिए सेना भयंकर संख्या में कश्मीर में उतार दी जिससे लोग इसके खिलाफ आवाज न उठा सकें। कश्मीर पहले से ही संसार का सबसे बडा मिलिट्री जोन है । जहां भारतीय सेना की लगभग आधी सेना कश्मीर में ही रहती है। इस परिस्थिति में एक लाख और अधिक सेना को कश्मीर में तैनात करने का क्या अर्थ है?

कश्मीर शुरुआत से ही आजादी के समय से ही भारत के लिए एक जटिल समस्या रही है । अतः सरकार को चाहिए कि ऐसे मामलों में भय या सैन्य बल की अपेक्षा कूटनीति से काम लेते हुए ऐसे मामलों के हल निकाले जाएं।

आकाश एक सामाजिक कार्यकर्ता हैं और फिलहाल दिल्ली में रह रहे हैं | ये भारत के प्रमुख मुद्दों जैसे गरीबी, अशिक्षा, पेयजल इत्यादि विषयों पर लिखते हैं | आकाश कई तरह के जन आंदोलनों में भी सक्रिय रहे हैं | इन्होने अपनी स्नातक बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से की हैं | आकाश से ट्विटर पर @IAkashPandey से जुड़ा जा सकता हैं |

हेल्थ

हेल्थ2 weeks ago

बरसात में आंखों में जलन को न करें नजरंदाज, कंजंक्टिवाइटिस के हो सकते हैं लक्षण

गर्मी एवं बरसात के मौसम में आंखों में इंफेक्शन का खतरा काफी बढ़ जाता है। इस मौसम में कंजंक्टिवाइटिस जैसी...

हेल्थ3 weeks ago

सेहतमंद एवं स्थायी जीवनशैली जीने के लिए बादाम को करें आहार में शामिल!

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। आज की तेज रफ्तार जिंदगी में एक महिला कई भूमिकाएं निभाती हैं। एक माता, एक पत्नी,...

हेल्थ1 month ago

एतिहाद की निजी पहल से बच्चों ने सीखे स्वादिष्ट भोजन बनाने के गुर

काठमांडू, ब्लिट्ज ब्यूरो। अज़ीज़िया मदरसा के बच्चों ने एक स्वादिष्ट सुबह का आनंद लिया क्योंकि उन्होंने उन्हें जीवन भर पकाने...

प्रदेश2 months ago

भाजपा की आयुष्मान भारत योजना केवल सफेद हाथी, मुश्किल घड़ी में बिहार के साथ ‘आप’ सरकार

नई दिल्ली, ब्लिट्ज संवाददाता। दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि बिहार में जिस बीमारी के कारण रोजाना...

ताजा खबरें2 months ago

मुजफ्फरपुर में लगे ‘नीतीश गो बैक’ के नारे, विपक्ष ने साधा सरकार पर निशाना

पटना, ब्लिट्ज ब्यूरो। सुशासन बाबू की मुसीबतें इन दिनों बढ़ती ही जा रही हैं। मोदी के विजयी रथ पर सवार...

दुनिया

दुनिया3 days ago

कल कश्मीर मुद्दे पर UNSC में बंद कमरे में होगी चर्चा

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council) जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) से विशेष दर्जा वापस लेने के भारत के...

दुनिया3 days ago

UNSC में पाकिस्तान के पत्र पर चर्चा के लिए चीन ने बुलाई अनौपचारिक बैठक

जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के खिलाफ पाकिस्तान की चिट्ठी पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में कोई...

दुनिया2 weeks ago

धारा 370 हटने से पाक में खलबली, व्यापारिक रिश्ते खत्म, भारतीय उच्चायुक्त को जाने का आदेश

इस्लामाबाद, एजेंसी। भारत द्वारा धारा 370 खत्म किए जाने के बाद से पाकिस्तान में बौखलाहट है। इस बौखलाहट का नतीजा...

दुनिया2 weeks ago

यूएन महासचिव के रिपोर्ट पर भारत सरकार की कड़ी प्रतिक्रिया

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र ने हाल में एक रिपोर्ट जारी किया है जिस पर भारत ने तीव्र प्रतिक्रिया दी है।...

दुनिया4 weeks ago

लाइफ स्किल ओलंपियाड 100 से ज्यादा देशों में लांच

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। सिंगापुर की ग्लोबल सामाजिक शैक्षिक कंपनी, स्किलीजेन लर्निंग फाउंडेशन ने इंटरनेशनल लाइफ स्किल्स ओलंपियाड के लिए...

बिहार

एक्सक्लूसिव2 weeks ago

बिहार कांग्रेस अध्यक्ष ‘झा’ ने आतंक के ‘अनंत’ को बचाने की ली सुपारी

बिहार कांग्रेस अध्यक्ष अपनी अध्यक्षीय पारी के गिने-चुने दिनों में आतंक का पर्याय बने रंगदार अनंत सिंह की तरफदारी कर...

दिल्ली-एनसीआर4 weeks ago

लोगों को पूर्ण नशाबंदी से जोड़ेगा ‘शराब छोड़ो, दूध पियो’ अभियान

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। भारत में ‘शराब छोड़ो, दूध पियो’ आंदोलन के जरिए लोगों को पूर्ण नशाबंदी अभियान से जोड़ने...

बिहार1 month ago

बिहार में जलप्रलय से हालात बेकाबू, 12 जिलों में बाढ़ ने मचाई तबाही

पटना, ब्लिट्ज ब्यूरो। बिहार में बाढ़ ने तबाही मचा दी है। अब तक 12 जिलां में बाढ़ से लगभग 20...

एक्सक्लूसिव1 month ago

मानहानि मामले में जमानत के बाद राहुल दिल्ली के लिए रवाना, बिहार के नेताओं के खिलाफ नाराजगी साफ दिखी

पटना, ब्लिट्ज ब्यूरो। कांग्रेस नेता राहुल गांधी को मानहानि के मामले में पटना कोर्ट से जमानत मिल गई। अब वे...

%d bloggers like this: