Connect with us

एक्सक्लूसिव

Operation Blunder, इंदिरा गाँधी, और एन. के. सिंह की कहानी

Published

on

Operation Blunder: देश को पहली गैर-कांग्रेसी सरकार मिल चुकी थी. नई नवेली जनता पार्टी की सरकार के नेतृत्व का पूरा जिम्मा अकेले मोरारजी देसाई उठा रहे थे. वही मोरारजी देसाई जो पिछली इंदिरा सरकार में उपप्रधानमंत्री के पद पर बैठे थे. लेकिन, बाद में इस पद से निष्कासित कर इमरजेंसी के दौरान जेल में डाल दिए गए थे.

लगातार दो दशकों से केवल कांग्रेस सरकार द्वारा चल रहे देश में एक गैर-कांग्रेसी नेता का प्रधानमंत्री बन जाना लोकतंत्र के लिए अच्छे दिनों की तरह था. लेकिन, इन अच्छे दिनों की उम्र ना तो लम्बी थी और ना ये तंदरुस्त थे. इस गैर-कांग्रेसी सरकार ने भी वैसी ही गलती कर डाली, जैसी इंदिरा ने इमरजेंसी के दौरान की थी. गलती अपनी पॉवर का इस्तेमाल कर अपने विरोधी को गिरफ्तार करने की. इंदिरा की गलती को नाम दिया गया था ‘इमरजेंसी’ और जनता पार्टी सरकार की इस गलती को नाम दिया गया ‘ऑपरेशन ब्लंडर’.

पहले गैर-कांग्रेसी प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई

                                                                   वो दिन, 3 अक्टूबर

उन दिनों गाँधी परिवार 12 Willingdon Crescent पर रह रहा था. बेशक इंदिरा गाँधी अब सत्ता में नहीं थी. लेकिन, घर का यह पता फिर भी इतना ताकतवर था कि देश के उस वक़्त के गृह-मंत्री चौधरी चरण सिंह को गाँधी की गिरफ्तारी के लिए कोई खास पुलिस अफसर चाहिए था. बहुत सोच-विचार के बाद सीबीआई के पुलिस सुपरिटेंडेंट एन. के. सिंह को इस काम के लिए चुना गया. उनकी छवि सरकारी महकमे में काफी सुलझी हुई मानी जाती थी |

3 अक्टूबर, 1977 को शाम पौने पांच बजे एन के सिंह अपने काफिले के साथ इंदिरा गाँधी के दरवाजे पर खड़े थे. गृह मंत्री की तरफ से सख्त ऑर्डर था कि इंदिरा को न तो हथकड़ियां पहनाईं जाएं और न ही उनके साथ बुरा व्यवहार किया जाए. एन के सिंह ने किया भी वैसा ही. मिसेस गाँधी को बड़ी इज्जत से बता दिया गया कि उनकी गिरफ्तारी का ऑर्डर आया है. उनके पास एक घंटा है तैयार होने के लिए. एक घंटे के बाद उन्हें पुलिस के साथ चलना होगा.

4 तारीख को छपा अमेरिकी अख़बार The New York Times

4 तारीख को छपा अमेरिकी अख़बार The New York Times

एक घंटा. यानि साठ मिनट. 11 वर्षों से देश चलाने का अनुभव रखने वाली इंदिरा के लिए इतना वक़्त काफी था अपना पासा फेंकने के लिए जिससे की एक नया खेल शुरू किया जा सके. एक घंटे में सब बड़े मीडिया संस्थानों तक खबर पहुँच चुकी थी. रिपोर्टर्स इंदिरा के घर के सामने सब कुछ कैमरे में कैद करने के लिए खड़े थे. कांग्रेस समर्थकों को प्रदर्शन के लिए बुला लिया गया था. इस एक घंटे में इंदिरा ने इतना इंतजाम तो कर ही लिया था कि पुलिस के काफिले के साथ-साथ वो जनता सरकार की ‘पॉपुलर इमेज’ का जनाज़ा भी लेती जाएं.

                                                                       मिसेज गाँधी की गिरफ्तारी का कारण

मिसेस गाँधी पर जनता पार्टी सरकार द्वारा यह आरोप लगाया गया कि उन्होंने अपने इलेक्शन कैंपेन के दौरान पैसों की धांधली की है. न केवल उन्होंने सरकारी पैसों का इस्तेमाल किया है. बल्कि 100 जीपें उनकी पार्टी कांग्रेस ने ऐसी भी इस्तेमाल की हैं, जो कुछ उद्योगपतियों ने सरकार से डर कर कांग्रेस को तोहफे में दी थी. मोटी भाषा में कहें तो, इंदिरा पर ‘Abuse of Power’ का आरोप था.

यह तो था सरकारी पक्ष. इससे उलट कांग्रेस पक्ष का कहना था कि इंदिरा को केवल बदला लेने के लिए गिरफ्तार किया गया है. इमरजेंसी के दौरान इंदिरा ने जिन नेताओं को गिरफ्तार करवाया था, वही नेता अब सत्ता में बैठे थे. उन पर यह आरोप लगा कि अपने अहंकार की तुष्टि के लिए, बदला लेने के लिए उन्होंने इंदिरा गाँधी को गिरफ्तार करवाया.

                                                                           नतीजा निकला ‘ऑपरेशन ब्लंडर’

इस गिरफ्तारी का नतीजा कुछ ऐसा रहा कि इस ऑपरेशन का नाम ही ‘ऑपरेशन ब्लंडर’ रख दिया गया. इंदिरा को गिरफ्तारी के अगले दिन जब मजिस्ट्रेट साहब के पास लाया गया तो मजिस्ट्रेट ने इंदिरा के खिलाफ इकट्ठा किये गए सबूत मांगे. सबूत के नाम पर पुलिस के पास कुछ नहीं था. सबूतों के अभाव के चलते इंदिरा को तुरंत रिहा कर दिया गया. 3 तारीख को गिरफ्तार हुई इंदिरा 4 तारीख तक रिहा हो चुकी थीं. और इंदिरा के साथ-साथ रिहा हो गया था वो जिन्न जो अगले चुनावों में जनता पार्टी को सताने वाला था.

इस गिरफ्तारी उर्फ़ ऑपरेशन ब्लंडर को कांग्रेस ने अच्छे से भुनाया. इमरजेंसी में आरोपी बनी इंदिरा इस गिरफ्तारी के कारण ‘विक्टिम’ की इमेज में आ चुकी थीं. जनता सरकार, जो इमरजेंसी के बाद की ‘मसीहा’ थी, अब आरोपी बन चुकी थी.

गिरफ्तारी के बाद घर वापस लौटती इंदिरा गाँधी

1980 में लोकसभा चुनाव हुए. जनता पार्टी सरकार की अन्य कमजोरियों के यज्ञ में ऑपरेशन ब्लंडर एक पूर्ण आहुति थी. चुनावी नतीजों में कांग्रेस को 353 सीटें मिलीं और इंदिरा दोबारा प्रधानमंत्री की कुर्सी पर जा बैठीं और कुर्सी पर बैठते ही उन्होंने इतिहास के उस पन्ने को पूर्ण विराम दे दिया, जिसकी शुरुआत के अक्षर ‘ऑपरेशन ब्लंडर’ थे.

अभिषेक लोहिया एक इंजीनियर टर्न्ड पत्रकार हैं, ब्लिट्ज इंडिया के संस्थापक सदस्य और SEO Head हैं | स्पोर्ट्स के अलावा अभिषेक अंतरराष्ट्रीय राजनीति और टेक्निकल पहलुओं पर लिखना पसंद करते हैं | अभिषेक काफी आरटीआई भी भरते रहते हैं और इसके साथ कई आन्दोलनों में भी सक्रिय रहे हैं | अभिषेक का ट्विटर हैंडल @ChiragLohia2 हैं|

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हेल्थ

लाइफस्टाइल3 weeks ago

दिल्ली के सभी प्राइवेट स्कूल बने डेंगू अभियान का हिस्सा

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। दिल्ली में गरीब हो, अमीर हो, मिडिल क्लास का हो, लोअर मिडिल क्लास का हो, चाहे...

हेल्थ3 weeks ago

संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल में 362 बेड्स के ट्रॉमा सेंटर का शिलान्यास

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। दिल्ली की स्वास्थ्य सेवाओं में को विस्तार देते हुए मंगोलपुरी में संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल में...

हेल्थ3 months ago

बरसात में आंखों में जलन को न करें नजरंदाज, कंजंक्टिवाइटिस के हो सकते हैं लक्षण

गर्मी एवं बरसात के मौसम में आंखों में इंफेक्शन का खतरा काफी बढ़ जाता है। इस मौसम में कंजंक्टिवाइटिस जैसी...

हेल्थ3 months ago

सेहतमंद एवं स्थायी जीवनशैली जीने के लिए बादाम को करें आहार में शामिल!

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। आज की तेज रफ्तार जिंदगी में एक महिला कई भूमिकाएं निभाती हैं। एक माता, एक पत्नी,...

हेल्थ3 months ago

एतिहाद की निजी पहल से बच्चों ने सीखे स्वादिष्ट भोजन बनाने के गुर

काठमांडू, ब्लिट्ज ब्यूरो। अज़ीज़िया मदरसा के बच्चों ने एक स्वादिष्ट सुबह का आनंद लिया क्योंकि उन्होंने उन्हें जीवन भर पकाने...

दुनिया

दुनिया4 weeks ago

आखिर कौन है Greta Thunberg? डोनाल्ड ट्रंप को घूरते हुए Video हो रहा वायरल

नई दिल्ली: 16 साल की बच्ची पर्यावरणविद् ग्रेटा थुनबर्ग (Greta Thunberg) जिसने अमेरिका में आयोजित हुए संयुक्त राष्ट्र के उच्चस्तरीय जलवायु...

दुनिया1 month ago

जापानी फिल्म महोत्सव का आयोजन

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। भारत में तीसरे जापानी फिल्म फेस्टिवल (जेएफएफ इंडिया) के लांचिंग इवेंट में जापान फाउंडेशन के महानिदेशक...

दुनिया2 months ago

कल कश्मीर मुद्दे पर UNSC में बंद कमरे में होगी चर्चा

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council) जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) से विशेष दर्जा वापस लेने के भारत के...

दुनिया2 months ago

UNSC में पाकिस्तान के पत्र पर चर्चा के लिए चीन ने बुलाई अनौपचारिक बैठक

जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के खिलाफ पाकिस्तान की चिट्ठी पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में कोई...

दुनिया2 months ago

धारा 370 हटने से पाक में खलबली, व्यापारिक रिश्ते खत्म, भारतीय उच्चायुक्त को जाने का आदेश

इस्लामाबाद, एजेंसी। भारत द्वारा धारा 370 खत्म किए जाने के बाद से पाकिस्तान में बौखलाहट है। इस बौखलाहट का नतीजा...

बिहार

बिहार1 month ago

ऑटो उत्पाद पर टैक्स कम करने के लिए बिहार तैयार नहीं!

पटना, ब्लिट्ज ब्यूरो। बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि ऑटो सेक्टर में जीएसटी के अंतर्गत लगने वाले...

एक्सक्लूसिव2 months ago

…बिहार कांग्रेस से मदन की छुट्टी तय, प्रभारी भी बदलेंगे !

नई दिल्ली। बिहार कांग्रेस में घमासान मचा हुआ है। सोशल मीडिया पर बिहार कांग्रेस के छुटभैये नेताओं और कार्यकर्ताओं की...

बिहार2 months ago

केंपा फंड के 47,436 करोड़ में बिहार को 522.95 करोड़ का स्वीकृति पत्र 

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। वन भूमि के इत्तर उपयोग के एवज में विगत 12 वर्षों से केंद्र के केंपा फंड...

बिहार2 months ago

नदियों के अंतर्योजन पर विशेष समिति की बैठक में नदी-जोड़ योजनाओं पर विशेष चर्चा

नई दिल्ली। ब्लिट्ज ब्यूरो। दिल्ली के विज्ञान भवन में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की अध्यक्षता में नदियों...

%d bloggers like this: