Connect with us

विधानसभा चुनाव 2019

हरियाणा विधानसभा और महिला विधायक; पढ़िए 1966 से लेकर 2014 तक की कहानी

Published

on

Haryana Election Exclusive Story: राजनीति और इसमें महिलाओं की सहभागिता दोनों एक दूसरे के पूरक होने चाहिए, लेकिन जब पार्टी ही महिलाओं को टिकट ना दे तो क्या कहा जा सकता हैं | हालाँकि ऐसा नहीं हैं कि राजनैतिक दलों ने कभी महिलाओं को टिकट दिया ही नहीं- लेकिन जब जनता ही उन महिलाओं को नकार दे, तो भी क्या ही कहा जा सकता हैं | हरियाणा की विधानसभा (Haryana Assembly) में महिलाओं की धमक कभी भी बहुत ज्यादा नहीं रही है।

साल 1967 से लेकर 2009 के बीच हुए कुल 11 विधानसभा चुनावों में केवल 65 महिलाएं ही अब तक विधानसभा तक पहुंचने में कामयाब हो पाई हैं। एक रिकॉर्ड तो यह भी हैं कि यहां के गुड़गांव और मेवात जिले से आज तक कोई महिला विधानसभा में नहीं पहुंच सकी। चलिए अब बताते हैं आपको पूरी विस्तृत जानकारी–

हरियाणा विधानसभा में महिलाओं की दस्तक

1967 में महिलाओं की दस्तक

हरियाणा राज्य का गठन के बाद 1967 में पहली बार हुए विधानसभा चुनाव में कुल 8 महिलाएं चुनावी समर में थीं और इनमें से 4 को जनता ने एक अच्छे बहुमत से चुन लिया। पहली विधानसभा में विधायक बनने वालों में नग्गल से लेखवती, इंद्री से प्रसन्नी देवी, कैथल से ओम प्रभा और रेवाड़ी की सुमित्रा देवी शामिल हैं।

1968 में महिलाओं की दस्तक

1968 में हुए दूसरे विधानसभा चुनाव में कुल 12 महिलाओं ने अपनी किस्मत आजमाई और इनमें से 7 महिलाएं कामयाब रहीं। इस चुनाव में अंबाला से लेखवती जैन, इंद्री से प्रसन्नी देवी, कैथल से ओमप्रभा, साल्हावास से शकुंतला, बल्लभगढ़ से शारदा रानी, रेवाड़ी से सुमित्रा देवी और लोहारू से चंद्रावती को विधायक बनने का मौका मिला।

1972 में महिलाओं की दस्तक

1972 के तीसरे विधानसभा चुनाव में 13 महिलाओं ने चुनाव लड़ा। इस बार इंद्री से प्रसन्नी देवी ने फिर विधायक बनकर हैट्रिक बना ली। इसके अलावा बल्लभगढ़ से सरयू रानी, बाढड़ा से लज्जा रानी और लोहारू से चंद्रावती ने जीत हासिल की।

1977 में महिलाओं की दस्तक

1977 के विधानसभा चुनाव में महिलाओं का प्रदर्शन बहुत अच्छा नहीं रहा और 20 महिला प्रत्याशियों में से केवल 4 को ही सफलता मिल पाई। इनमें यमुनानगर से कमला देवी, अंबाला कैंट से सुषमा स्वराज, कैलाना से शांति देवी और बावल से शकुंतला जीतकर आईं।

1982 में महिलाओं की दस्तक

1982 में 27 महिलाएं मैदान में थीं और इनमें से 7 को ही सफलता मिली जिनमें करनाल से शांति देवी, नोल्था से प्रसन्नी देवी, हसनगढ से भानती देवी, कलानौर से करतारी देवी, बल्लभगढ़ से शारदा रानी, बाढड़ा से चंद्रावती और बावल से शकुंतला शामिल थी।

1987 में महिलाओं की दस्तक
साल 1987 में विधानसभा में पहुंचने के लिए 35 महिलाओं ने चुनाव लड़ा, पर 5 ही विधानसभा की चौखट तक पहुंच पाई। इनमें यमुनानगर से कमला वर्मा, अंबाला कैंट से सुषमा स्वराज, झज्जर मेधावी, आदमपुर से जसमा देवी और दड़बाकला से विद्या बेनीवाल शामिल हैं।

1991 में महिलाओं की दस्तक

साल 1991 के चुनाव में 41 महिलाओं ने किस्मत आजमाई और 6 को ही जीत मिल पाई। इनमें इंद्री से जानकी देवी, कलानौर से करता देवी, कैलाना से शांति देवी, लौहारू से चंद्रावती, डबवाली से संतोष चौहान और बावल से शकुंतला हैं।

1996 में महिलाओं की दस्तक

साल 1996 में विधानसभा में पहुंचने के लिए रिकॉर्ड 93 महिलाओं ने चुनाव लड़ा पर जीत सिर्फ 4 की हुई। यमुनानगर की प्रसन्नी देवी, कलानौर से करतार देवी, रोहट से कृष्णा गहलावत और दड़बाकलां से विद्या देवी एमएलए चुनी गईं।

2000 में महिलाओं की दस्तक

साल 2000 के चुनाव में 49 महिलाओं में से 4 ही जीत पाई। इनमें अंबाला शहर की वीणा, कलानौर से सरिता, साल्हावास से अनीता यादव और दड़बा कलां से विद्या देवी शामिल हैं।

2005 में महिलाओं की दस्तक

2005 के विधानसभा चुनाव में कुल 60 महिलाएं चुनावी मैदान में थी और पहली बार महिलाओं ने दहाई का आंकड़ा पार करते हुए विधानसभा में अपनी अच्छी उपस्थिति दर्ज कराई। इस चुनाव में यमुनानगर से कृष्णा पंडित, करनाल से सुमिता सिंह, जुंडला से मीनारानी, घरोंडा से रेखा राणा, असंध से राजरानी पूनम, नौल्था से प्रसन्नी वी, कलानौर से करतार देवी, साल्हावास से अनीता यादव, कलायत से गीता भुक्कल, बल्लभगढ़ से शारदा राठौर और शकुंतला भगवाडिया ने चुनाव जीता।

2009 में महिलाओं की दस्तक

2009 के विधानसभा चुनाव में 68 महिलाओं में से 9 जीतीं जिसमें करनाल से सुमिता सिंह, सोनीपत से कविता जैन, नारनौंद से सरोज, हिसार से सावित्री जिंदल, कलानौर से शकुंतला, अटेली से अनीता यादव, तोशाम से किरण चौधरी, झज्जर से गीता भुक्कल तथा बल्ल्भगढ़ से शारदा राठौर का नाम शामिल है।

हरियाणा विधानसभा (2014) में महिलाओं की दस्तक

2014 के विधानसभा चुनाव में कुल 116 महिला प्रत्याशियों में से 13 यह चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंची | जिनमे डबवाली से नैना चौटाला, अटेली से संतोष यादव, पानीपत शहर से रोहिता, झज्जर से गीता, पटौदी से विमला, सोनीपत से कविता, तोशम से किरण, बड़कई से सीमा, कलां से प्रेमलता, कालका से लतिका, कलानपुर से शकुंतला, और हांसी से रेणुका विश्नोई शामिल हैं |

क्या महिलायें हरियाणा विधानसभा चुनाव में भाग नहीं लेती या मामला ही कुछ और हैं ?

ऐसा नहीं हैं कि हरियाणा विधानसभा चुनावों में महिलाएं भाग नहीं लेती, लेकिन अगर बीते दशक के आंकड़ों को देखा जाए तो हम पाते हैं कि महिलाओं के जीतने की प्रायिकता या प्रत्याशा पुरुषों के मुकाबले काफी ज्यादा हैं, ऐसे में फिर भी पार्टी महिलाओं को टिकट देने से क्यूँ परहेज करती हैं, इसका कोई वैधनिक कारण फिलहाल तो नज़र नहीं आता.

2009 के विधानसभा चुनावों में कुल 68 महिला प्रत्याशी मैदान में थी, जिनमे से 9 महिलायें जीतकर विधानसभा तक पहुंची, इसका मतलब महिलाओं के जीतने की प्रत्याशा करीब 12 से 14 प्रतिशत हैं, जो की पुरुषों के मुकाबले काफी ज्यादा हैं- लेकिन यह आंकड़ा तब ध्वस्त हो जाता हैं , जब हम 2014 के आंकड़ों का अध्धयन करते हैं, क्यूंकि यहाँ कहानी एकदम उल्ट जाती हैं.

कुल 116 महिला प्रत्याशियों में से 13 ही महिला चुनाव जीतकर विधानसभा पहुँचती हैं | जिसका मतलब साफ़ हैं जीतने का आंकड़ा अब 10 प्रतिशत से नीचे आ चुका हैं | ऐसे में अब देखना यह होगा कि क्या राजनैतिक दल महिलाओं पर एक बार फिर भरोसा दिखा पाएंगे या फिर महिलाओं की राजनीति में भागीदारी महज एक बहस का विषय ही बनकर रह जाएगी |

हेल्थ

एक्सक्लूसिव1 day ago

आप और हम मिलकर कैसे करते हैं पर्यावरण को प्रदूषित ?

जलवायु परिवर्तन के कारण वैश्विक आबोहवा बिगड़ती जा रही है। पेट्रोल व डीज़ल चालित वाहनों की लगातार हो रही वृद्धि,...

हेल्थ3 weeks ago

कैंसर के इलाज में मददगार बन सकता है जर्मनीः चौबे

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। ब्रिक्स देशों के नौवें स्वास्थ्य मंत्रियों के सम्मेलन में भाग लेकर स्वदेश लौटे केंद्रीय स्वास्थ्य एवं...

लाइफस्टाइल2 months ago

दिल्ली के सभी प्राइवेट स्कूल बने डेंगू अभियान का हिस्सा

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। दिल्ली में गरीब हो, अमीर हो, मिडिल क्लास का हो, लोअर मिडिल क्लास का हो, चाहे...

हेल्थ2 months ago

संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल में 362 बेड्स के ट्रॉमा सेंटर का शिलान्यास

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। दिल्ली की स्वास्थ्य सेवाओं में को विस्तार देते हुए मंगोलपुरी में संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल में...

हेल्थ4 months ago

बरसात में आंखों में जलन को न करें नजरंदाज, कंजंक्टिवाइटिस के हो सकते हैं लक्षण

गर्मी एवं बरसात के मौसम में आंखों में इंफेक्शन का खतरा काफी बढ़ जाता है। इस मौसम में कंजंक्टिवाइटिस जैसी...

दुनिया

दुनिया4 weeks ago

भारत 2025 तक 70 फीसदी तक स्तनपान ले जाने में सक्षम : चौबे

हैडलबर्ग, जर्मनी/नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। भारत में स्तनपान को लेकर जन-जागरूकता अभियान का असर अब दिखने लगा है। स्तनपान कराने...

दुनिया1 month ago

ब्रिक्स के स्वास्थ्य मंत्रियों के सम्मेलन में भाग लेने के लिए ब्राजील पहुंचे चौबे

पटना, ब्लिट्ज ब्यूरो। ब्रिक्स देशों के नौवें स्वास्थ्य मंत्रियों के सम्मेलन में भाग लेने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार...

दुनिया2 months ago

आखिर कौन है Greta Thunberg? डोनाल्ड ट्रंप को घूरते हुए Video हो रहा वायरल

नई दिल्ली: 16 साल की बच्ची पर्यावरणविद् ग्रेटा थुनबर्ग (Greta Thunberg) जिसने अमेरिका में आयोजित हुए संयुक्त राष्ट्र के उच्चस्तरीय जलवायु...

दुनिया2 months ago

जापानी फिल्म महोत्सव का आयोजन

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। भारत में तीसरे जापानी फिल्म फेस्टिवल (जेएफएफ इंडिया) के लांचिंग इवेंट में जापान फाउंडेशन के महानिदेशक...

दुनिया3 months ago

कल कश्मीर मुद्दे पर UNSC में बंद कमरे में होगी चर्चा

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council) जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) से विशेष दर्जा वापस लेने के भारत के...

बिहार

बिहार1 day ago

बिहार को गरीबी और अभाव से मुक्त करना सरकार का लक्ष्य

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। 39वें अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला में बिहार दिवस के दिन बिहार सरकार के उद्योग विभाग के उद्योग...

बिहार1 week ago

IITF-2019: धागे से बनी रंगबिरंगी नायाब ज्वैलरी लोगों को खूब आकर्षित कर रहे हैं

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। 39वें अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला में हॉल नम्बर 12 में सजे बिहार पवेलियन में शिल्पकृति महिला स्वावलंबन...

दिल्ली-एनसीआर1 week ago

IITF 2019: हैंड पेंटिंग से सजे बिहार पवेलियन ने लोगों को लुभाया

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित होने वाले अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला के पहले दिन बिहार के...

बिहार4 weeks ago

दिल्ली में अत्याधुनिक बिहार एंपोरियम का उद्घाटन

नई दिल्ली, ब्लिट्ज ब्यूरो। बिहार के कारीगरों और बुनकरों द्वारा बनाई गई वस्तुओं की देश-विदेश में बड़ी मांग है। हमारी...

%d bloggers like this: